[ad_1]

Turmeric is being applied to Mother Goddess in Gadkalika temple also

प्रतिदिन दूल्हा बन रहे महाकाल
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


गढ़कालिका मंदिर की शासकीय पुजारी महंत करिश्मा नाथ ने बताया कि शिव विवाह के अवसर पर गढ़कालिका माता मंदिर में शिव नवरात्रि महोत्सव मनाया जा रहा है। मंदिर में प्रतिदिन माता जी का अभिषेक-पूजन व महाआरती कर नियमित रूप से भोग तो लगाया ही जा रहा है, लेकिन प्रतिदिन किए जाने वाले पूजन अर्चन के साथ ही माता जी को हल्दी, मेहंदी लगाने की परंपरा का भी प्रतीकात्मक रूप से निर्वहन किया जा रहा है।

मंदिर में प्रतिदिन आने वाली महिला श्रद्धालु भी इस उत्सव में शामिल होकर वधु के गीत गा रही है। जिससे मंदिर में माता के विवाह का एक अलग ही नजारा दिखाई दे रहा है। महंत करिश्मा नाथ ने बताया 8 मार्च को महाशिवरात्रि पर इसका समापन होगा। इस अवसर पर विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान एवं आयोजन मंदिर मे किए जाएंगे।

पूजन सामग्री की शुद्धता का रखा ध्यान

महंत करिश्मा नाथ ने बताया की 29 फरवरी से मंदिर मे महाशिवरात्रि विवाह उत्सव की शुरुआत हो चुकी है। मंदिर मे गणेश पूजन, माता पूजन, महावर एवं हल्दी मेहंदी की रस्म अदा की गई। आपने बताया कि माता जी को चढ़ाई जाने वाली हल्दी मेहंदी पूरी शुद्धता के साथ तैयार की गई है।

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *