[ad_1]

Shivratri 2024 Shivnavratri festival from 29th February to 9th March in Ujjain Mahakaleshwar Temple

महाशिवरात्रि 8 मार्च को मनाई जाएगी।
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


Shivratri 2024: उज्जैन श्री महाकालेश्वर मंदिर में शिवनवरात्रि पर्व की धूम 29 फरवरी से 9 मार्च तक रहेगी। महाशिवरात्रि का पर्व 8 मार्च को मनाया जाएगा। हर दिन सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक बाबा महाकाल का विशेष पूजन जाएगा। वहीं, शाम को महाकालेश्वर भगवान को वस्त्र धारण कराकर विशेष श्रृंगार किया जाएगा। हर दिन भगवान श्री महाकालेश्वर के विभिन्न स्वरूपों (विग्रहों) के दर्शन होंगे। 

श्री महाकालेश्वर मंदिर में महाशिवरात्रि पर्व को लेकर कलेक्टर नीरज कुमार सिंह की अध्यक्षता में तैयारियों को लेकर गुरुवार को बैठक की गई। जिसमे श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष व कलेक्टर ने कहा कि महाशिवरात्रि पर मंदिर आने वाले  श्रद्धालुओं की व्यवस्था लगभग पिछले साल की तरह रहेगी। बैठक में श्रद्धालुओं के प्रवेश, भस्म आरती, पार्किंग समेत यातायात व्यवस्था को लेकर रणनीति बनाई गई। अब जानिए बैठक में क्या निर्णय किए गए?  

यह रहेगी पार्किंग व्यवस्था 

कर्कराज पार्किंग (समस्त वाहनों के लिए), कलोता समाज धर्मशाला (दुपहिया/प्रशानिक वाहनों), इंदौर रोड़ से आने वाहनों की पार्किंग व्यवस्था रूद्राक्ष होटल के दाहिनी ओर पार्किंग व्यवस्था (शनि मंदिर), शासकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय तिराहे पर हाउसिंग बोर्ड का मैदान, हरिफाटक ब्रिज के नीचे हाट बाजार और मन्नत गार्डन की ओर की गई है। देवास, मक्सी, आगर रोड़ से आने वाहनों की पार्किंग व्यवस्था शासकीय इंजिनीयरिंग महाविद्यालय के मैदान, प्रशांति धाम पार्किंग में रहेगी। वहीं, बड़नगर, नागदा रोड़ से आने वाले वाहनों की पार्किंग व्यवस्था मुल्लापुरा पार्किंग (धान उपार्जन केंद्र), कार्तिक मेला मैदान पार्किंग, आदिनाथ जैन पार्किंग (बड़नगर रोड़), उदासिन अखाड़ा/निर्मोही अखाड़ा (बड़नगर रोड़) की ओर रहेगी। 

आसानी से कैसे कर सकेंगे दर्शन

श्री महाकालेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के लिए नृसिंह घाट तिराहे पर स्थित गंगौत्री गार्डन से प्रवेश द्वार बनाया जाएगा। श्रद्धालु इस द्वार से प्रवेश कर चारधाम मंदिर पानी की टंकी वाले मार्ग से त्रिवेणी संग्रहालय की ओर, त्रिवेणी संग्रहालय, नंदी मंडपम, महाकाल महालोक, मानसरोवर भवन में प्रवेश कर फेसेलिटी सेंटर वन, नवीन टनल, कार्तिक मंडपम और गणेश मंडपम होते हुए  बाबा महाकाल के दर्शन कर सकेंगे। दर्शन के बाद 10 नंबर द्वार और आपातकालीन निर्गम द्वार से बड़ा गणेश मंदिर के दाहिनी ओर पुराने अन्नक्षेत्र से हरसिद्धि चैराहा होते हुए झालरिया मठ के रास्ते बाहर की ओर निकलेंगे। 

शिवनवरात्रि पर्व पर पूरे देश से लाखों  श्रद्धालु बाबा महाकाल के दर्शन करने के लिए आएंगे। ऐसे में उनके लिए स्वास्थ्य समेत अन्य सभी जरूरी सुविधाएं की गईं हैं। जो इस प्रकार रहेंगी…

स्वास्थ्य:  श्रद्धालुओं को प्राथमिक उपचार की सुविधा मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी के माध्यम से उपलब्ध कराई जाती है। चयनित स्थानों पर डॉक्टर्स, कंपाउंडर, और पेरामेडिकल स्टाफ की दवाओं के साथ ड्यूटी लगाई जाएगी। चयनित स्थानों पर एंबुलेंस की व्यवस्था भी रहेगी। 

सफाई: लाखों की संख्या में आने वाले श्रद्धालुओं के कारण मंदिर के आसपास के क्षेत्र को साफ रखना भी चुनौती होगी। ऐसे में मंदिर परिसर, श्रीमहाकाल महालोक के आस-पास और बाहर के क्षेत्र में साफ-सफाई कराने की व्यवस्था की जिम्मेदारी स्वास्थ्य अधिकारी नगर पालिक निगम उज्जैन को दी गई है। 

खोया पाया केंद्र: बाबा महाकाल के दर आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मंदिर समिति की ओर से मंदिर परिक्षेत्र के चारों ओर चयनित स्थानों पर अस्थाई पूछताछ और खोया-पाया केंद्र स्थापित किए जाएंगे। इन केंद्रों के संचालन की व्यवस्था जिला संगठन आयुक्त भारत स्काउट एवं गाइड द्वारा की जाएगी। 

दर्शन के लिए बैरिकेडिंग:  श्रद्धालुओं की अधिक संख्या को देखते हुए उन्हें दर्शन कराने के लिए भी चौकस व्यवस्था की जाएगी। श्रद्धालु कतारबद्ध तरीके से दर्शन करेंगे, इसके लिए निर्धारित मार्ग पर पर्याप्त बैरिकेटिंग की जाएगी। मंदिर परिसर और मंदिर परिक्षेत्र के आस-पास पर्याप्त मात्रा में मजबूत बैरिकेटिंग कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग द्वारा की जाएगी।

पेयजल: श्रद्धालुओं को पर्याप्त पेयजल की व्यवस्था श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा की जाएगी। मंदिर आगमन वाले मार्ग पर चयनित स्थानों पर पानी की टंकियां रखी जाएंगी। श्री महाकालेश्वर मंदिर के बाह्य परिक्षेत्र में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी नगर पालिक निगम के माध्यम से भी पानी के टैंकर चयनित स्थानों पर खड़े किए जाएंगे।   

चलित शौचालय: महाशिवरात्रि पर्व पर आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए चलित शौचालय की व्यवस्था भी की जाएगी। 7 मार्च शाम 4 बजे से 9 मार्च शाम 5 बजे तक मंदिर परिक्षेत्र के आस-पास चलित शौचालय की सुविधा उपलब्ध रहेगी। इसके लिए आयुक्त नगर पालिक निगम उज्जैन को जिम्मेदारी दी गई है। 

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *