Cow Parliament: Proposal passed in Cow Parliament to declare cow as mother of the nation, death penalty

गो संसद में मौजूद चारों पीठ के शंकराचार्य।
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


माघ मेला में मंगलवार को पहली बार हुई गो संसद में चारों पीठों के शंकराचार्यों की सहमति से गाय को राष्ट्र माता का दर्जा दिलाने के लिए ध्वनि मत से प्रस्ताव पारित किया गया। इस दौरान गो -संसद में लिए गए निर्णयों के आधार पर 21 सूत्रीय घोषणा पत्र जारी किया गया। इसमें गो हत्या पर मृत्युदंड का प्रावधान लाने,गाय को पशुओं की सूची से अलग कर गो मंत्रालय का गठन करने और स्कूलों में मिड-डे मील में पुष्टाहार की जगह बच्चों को गाय का दूध पिलाने की बात प्रमुखता से शामिल है। इस प्रस्ताव की प्रति बुधवार को केंद्र सरकार को भेजी जाएगी।

सेक्टर तीन स्थित ज्योतिष्पीठ के शंकराचार्य के शिविर में गो संसद मंगलवार को दिन के 12 बजे आरंभ हुई। ज्योतिष्पीठाधीश्वर स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद और द्वारका-शारदा पीठाधीश्वर स्वामी सदानंद महाराज की मौजूदगी में सबसे पहले एजेंडा पढ़कर सुनाया गया। इसके बाद शृंगेरी पीठ के शंकराचार्य भारती तीर्थ की ओर से भेजा गया वीडियो संदेश प्रसारित किया गया। इसमें शृंगेरी के शंकराचार्य की ओर से कहा गया कि गाय भारतीय संस्कृति की चेतना में प्रवाहमान है। इसे राष्ट्रमाता घोषित कर संस्कृति की मूल आत्मा की रक्षा की जानी चाहिए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *