Mine diversion line damaged in ujjain

खान डायवर्सन की लाइन क्षतिग्रस्त
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


सिंहस्थ 2016 में शिप्रा नदी में मिल रहे खान नदी के गंदे पानी को डायवर्ट करने के लिए खान डायवर्सन योजना लागू की गई। इस पर करीब 80 करोड़ रुपए खर्च हुए। योजना में खान नदी के गंदे पानी को शिप्रा नदी में मिलने से पहले उसे डायवर्ट कर पाइप के जरिये शहर के बाहर छोड़ना था। इसके लिए कई जगह पर बड़े पाइप लाइन डाली गई थी। इन्हीं पाइप में लीकेज के कारण भूखी माता मंदिर के सामने पप्पू यादव के खेत पर लाइन धंस गई, जिसके कारण वहां बड़ा गड्डा हो गया। सुबह किसान खेत पर पहुंचा तो उसने अधिकारियों को सूचना दी। जिसके बाद कलेक्टर नीरज सिंह, निगम कमिश्नर आशीष पाठक, महापौर मुकेश टटवाल, पार्षद प्रकाश शर्मा मौके पर पहुंचे, तो यहां बड़ा गड्ढा मिला।

जिसके बाद अधिकारियों ने तुरंत पीएचई की लाइन को ठीक करने के निर्देश दिए है। महापौर मुकेश टटवाल ने बताया कि भूखी माता के सामने सिंहस्थ मेले के दौरान 40 फीट जमीन के अंदर लाइन डाली थी। खान डायवर्सन, की के कारण ही जमीन धंस गई, जिसके कारण शहर की प्यास बुझाने वाले गंभीर डेम की जल प्रदाय की लाइन भी धंस गई है, जिसे रिस्टोर किया जाएगा, इससे शहर में जल संकट की स्थिति बनेगी।

लापरवाही सामने आई तो होगी कार्रवाई

जबकि कलेक्टर नीरज सिंह ने कहा कि खान डायवर्सन की पाइप लाइन टूटी है, ऊपर की मिटटी भी धंस गई है। खान की पाइपलाइन के ऊपर बनी पेयजल की लाइन भी टूट गई है। प्राथमिकता है पानी की पाइपलाइन ठीक करना, जिसके 15 घंटे में ठीक करने के निर्देश दिए है। खान को लेकर कई बड़े इशू है, अगर इसमें लापरवाही सामने आई तो कार्रवाई होगी।

शहर में आएगा पीने के पानी का संकट

भूखी माता मंदिर के सामने खेत मे खान डायवर्सन की लाइन क्षतिग्रस्त होने से खेत में 20 फीट गहरा एवं 25 फीट चौड़ा गड्ढा बन गया। जिसके कारण गंभीर डेम से गऊघाट प्लांट तक पहुंचने वाली 800 एमएम व्यास वाली पाइपलाइन भी क्षतिग्रस्त हो गई। जिसके कारण शहर में पिने का पानी का जल संकट खड़ा हो गया है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *