Traffic Rules number plate

ट्रैफिक नियमों की जानकारी देते यातायात के आरक्षक सुमन्त सिंह कछावा
– फोटो : न्यूज डेस्क, अमर उजाला, इंदौर

विस्तार


वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें



पुलिस कमिश्नर मकरंद देऊस्कर और पुलिस उप महानिरीक्षक यातायात प्रबंधन मनीष कुमार अग्रवाल की पहल पर ट्रैफिक अल्फाबेटस कैलेंडर तैयार किए गए हैं। ट्रैफिक अल्फाबेट्स में यातायात के विभिन्न पहलुओं को संग्रहित किया गया है। अब यातायात पुलिस द्वारा ट्रैफिक अल्फाबेट्स कैलेंडर यातायात के नियमों के प्रचार-प्रसार के लिए शहर के स्कूलों में वितरित किए जा रहे हैं। शासकीय हाई स्कूल पिपलियाहाना में “ट्रैफिक की पाठशाला” लगाई गई, यातायात पुलिस की टीम ने बहुत ही रोचक तरीके से ट्रैफिक अल्फाबेट्स सिखाए। स्टूडेंट्स को एन फार- नंबर प्लेट्स व हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट्स के बारे में बताया गया।

● सफेद नंबर प्लेट- प्राइवेट वाहनों में सफेद नंबर प्लेट का इस्तेमाल होता है।

● पीली नंबर प्लेट- व्यवसायिक वाहन चालकों को पीले रंग की नंबर प्लेट लगाने का अधिकार है। 

● हरे रंग की नंबर प्लेट- इलेक्ट्रिक वाहन मालिक हरे रंग की नम्बर प्लेट से गाड़ी चला सकते हैं, हरे रंग पर सफेद से नम्बर हो तो प्राइवेट इलेक्ट्रिक व्हीकल और यदि पिले से अक्षर लिखे हो तो कमर्शियल इलेक्ट्रिक व्हीकल है।

● काली नंबर प्लेट- किराए के कार चालक आमतौर पर पीले अक्षरों वाली काली नंबर प्लेट वाले वाहन चलाते हैं। जैसे जूम कार।

● लाल रंग की नंबर प्लेट- लाल रंग की नंबर प्लेट पर सफेद अल्फा-न्यूमेरिक नंबर लिखे होते हैं। इसका इस्तेमाल बिल्कुल नई कारों पर किया जाता है और इसे आमतौर पर वाहन निर्माता या डीलर जारी करते हैं। 

● नीला नंबर प्लेट- विदेशी प्रतिनिधि या राजदूत सफेद अल्फा-अंकों वाला नीला नंबर प्लेट का उपयोग कर सकते हैं।

● ऊपर की ओर इशारा करने वाले तीर के साथ नंबर प्लेट- सैन्य अधिकारियों को ही ऐसे वाहन चलाने की अनुमति है। ऐसी गाड़ियों के नंबर प्लेट पर ऊपर की ओर इशारा करने वाला तीर होता है।

● भारत के प्रतीक’ के साथ लाल रंग की नंबर प्लेट- भारत के राष्ट्रपति या संबंधित राज्यों के राज्यपाल ‘भारत के प्रतीक’ के साथ लाल रंग के प्लेट का उपयोग करते हैं।

बच्चों ने पूछे कई सवाल 

इसके अतिरिक्त स्टूडेंट को आरसी- रजिस्ट्रेशन प्लेट, डीएल- ड्राइविंग लाइसेंस, पीयूसी- पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट के बारे में भी विस्तार से बताया। छात्रों ने बड़ी ही उत्सुकता के साथ यातायात के नियमों को ना सिर्फ जाना बल्कि अपने पैरेंट्स को भी प्रेरित करने का वादा किया। पाठशाला के दौरान यातायात के आरक्षक सुमन्त सिंह कछावा से बच्चों ने प्रश्न भी किए और उनकी जिज्ञासाओं को दूर किया। इस दौरान शासकीय हाई स्कूल पिपलियाहाना इंदौर का स्टाफ सीमा सोमानी (एसपीसी नोडल), संध्या यादव नीता जावनजड, आरती तिवारी, उमा पाठक, हरेंद्र राज बिल्लौर, संदीप जैन, अलका पवार आदि उपस्थित रही। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *