Gyanvapi Case Survey work continued for six months and survey was interrupted twice

ज्ञानवापी सर्वे
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


साल 1991 के प्राचीन मूर्ति स्वयंभू ज्योतिर्लिंग लॉर्ड विश्वेश्वरनाथ के मुकदमे में एएसआई (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण) विभाग ने ज्ञानवापी की सर्वे रिपोर्ट सफेद सीलबंद पैकेट में प्रशांत सिंह की अदालत में दाखिल की थी। एएसआई को ज्ञानवापी सर्वे की रिपोर्ट की प्रति दाखिल करने के लिए 25 जनवरी तक का समय मिला था। अब सर्वे की नकल हिंदू पक्षकारों समेत पांच लोगों को दी गई है। नकल 839 पेज की है। रिपोर्ट में कई ऐसी बातें लिखी हैं जो बता रही हैं कि वहां हिंदू मंदिर था। सर्वे का काम करीब छह महीने तक चला, इस बीच इसमें रुकावटें भी आईं। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *