Vaidyanagri drenched in devotion

राम रथ यात्रा में छर्रा विधायक रवेंद्र पाल सिंह व अन्य
– फोटो : संवाद

विस्तार


22 जनवरी की सुबह से ही वैद्यनगरी विजयगढ़ भक्तिरस से सराबोर रही। हनुमान मंदिर, अग्रवाल धर्मशाला, गोवर्धननाथ मंदिर, सिद्धेश्वरी देवी तलावरधाम आदि मंदिरों में सुंदरकांड, हनुमान चालीसा का पाठ हुआ। प्राणाचार्य भवन में भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष नीरज गोयल की अगुवाई में लोग भजन संध्या में आनंदित रहे।

स्वयं सेवक संघ के सह संचालक हरीश गर्ग ने मुख्य बाजार में लाउडस्पीकर लगवाए जिन पर पूरे दिन भजन बजते रहे। श्रीगणेश मेला समिति की ओर से रामरथ यात्रा निकाली गई। ये सिद्धेश्वरी गंभीर देवी मंदिर से शुरू हुई। प्राचीन हनुमान मंदिर को वैद्य गोपालशरण गर्ग ने बिजली व फूलों की झालरों से सजवाया। हनुमान वाटिका प्रांगण के कार्यक्रम में महामंडलेश्वर पूर्णानंदपुरी महाराज, श्रीनिवास दास शास्त्री वृंदावन ने दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ कराया। संचालन पं. परम किशोर शर्मा ने किया। कारसेवकों को सम्मानित किया गया। हनुमान मंदिर में फूलबंगला सजाया गया। देर शाम मंदिर प्रांगण में दीप प्रज्ज्वलन सहित विद्युत की रोशनी की गई। आतिशबाजी के साथ सभी भक्तों को प्रसाद वितरित किया गया।

भजन संध्या

वैद्य गोपाल शरण गर्ग, पंडित केशव देव शर्मा, रामगोपाल वर्मा, राम प्रसाद हलवाई, महेश वर्मा, शिवशंकर वार्ष्णेय, पं. सियाराम शर्मा, रामकिशोर तायल, नीरज गोयल, राजेश गर्ग, देवेश अग्रवाल, अमृत गर्ग, देवेंद्र वार्ष्णेय, शिवशंकर वार्ष्णेय, त्रिलोकी वार्ष्णेय, विपिन वार्ष्णेय, पं. राजकुमार शर्मा, ज्वालाशरण शर्मा, ठाकुर रामपाल सिंह आदि सेवारत रहे। 

कलश यात्रा

विजयगढ़ के मुख्य बाजार में प्राचीन मनकामेश्वर शिव मंदिर पर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम हुआ। मंदिर पर श्री गणेश, कार्तिक, पार्वती, नंदीगंण की प्राण प्रतिष्ठा पंडित राजकुमार शर्मा व श्रीकृष्ण शर्मा के द्वारा वेदों उच्चारण के साथ संपन्न हुई। कलश यात्रा मंगलबाग से प्रारंभ होकर मुख्य बाजार होती हुई बैंड बाजों के साथ निकली। जगह-जगह भक्तगणों ने फूल बरसाए और जगह-जगह चाय दूध आदि का वितरण किया।  कलश यात्रा में कई बैंड और झांकी निकाली गईं। इस मौके पर शिवशंकर वार्ष्णेय, दिनेशचंद राजा, विमल गांधी, राजेश गर्ग, सुमित वार्ष्णेय, मुरारीलाल वार्ष्णेय, दिगंबर सिंह, विशाल पारूआ,बसंती देवी, किरण देवी, राजरानी वार्ष्णेय,सीमा वार्ष्णेय,गुंजन वार्ष्णेय आदि मौजूद रहे।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *