महरौनी। मंदिरों में सुबह से ही भगवान का अभिषेक, पूजन-अर्चन व सुंदरकांड पाठ किया गया।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *