A man became an example of cleanliness in Gwalior

सफाई करता व्यक्ति
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


ग्वालियर निवासी उदयभान रजक एक प्राइवेट नौकरी करते हैं। साल 2018 से दिनभर में वे इस स्वच्छता के कार्य के लिए 2 घंटे का समय जरूर निकाले हैं। स्वच्छता की प्रेरणा को लेकर उदयभान ने बताया कि बात सन 2018 की है, जब वो अपने किसी काम से जा रहा था। जब चौराहे पर लाल बत्ती हुई तो उन्होंने देखा कि कुछ लोग जो अपने वाहनों से जा रहे थे और मुंह में गुटका, पान खा रहे थे, उन्होंने उसे वहीं पर थूक दिया और बिना ये सोचे कि यह कितना गन्दा लगता है।

जब वो अगले चौराहे पर पहुंचे तो फिर से वही नजारा देखने को मिला। इस नजारे को देखकर एक विदेशी पर्यटक ने मुंह बना लिया तो बड़ा असंतोष हुआ कि लोग कितना गलत सोचते है देशवासियों के बारे में और इस घटना से देश कि कितनी गलत छवि लेकर वे जाते हैं। तभी से उनके मन में विचार आया और वो जुट गए इस सफाई में।

पान की पीक सड़क पर थूकते हैं

उदयभान रजक का कहना है कि वह पिछले 5 सालों से रोज 2 घंटे मंदिर परिसर के आसपास शहर के चौराहे हों या फिर स्कूल के आसपास का एरिया हो, वहां पर वह जाते हैं और जो लोग गुटका तंबाकू पान की पीक सड़क पर थूकते हैं उसको वह पानी और ब्रश से साफ करते हैं। उसका कहना है कि जिस दौरान वह साफ करते हैं उस दौरान कई ऐसे लोग भी उनसे माफी मांगने के लिए आते हैं।

पीएम मोदी से ली प्रेरणा

उदयभान ने बताया कि अयोध्या में भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा होने वाली है, इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आवाहन किया था कि लोग अपने मंदिरों की साफ सफाई करें। उन से प्रेरित होकर अब उदयभान ने अपना स्वच्छता अभियान मंदिरों की तरफ मोड़ दिया है। इसके अलावा वे रोजाना चार मंदिरों की सफाई करने के लिए जाते हैं और इसके बाद अगर समय बचता है तो सड़कों पर भी लोगों को सफाई के साथ-साथ समझाइश देते नजर आते हैं। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *