Ujjain News 1725 children of Ujjain have not received bicycles yet

एक हजार 725 छात्राओं को अभी तक नहीं मिली साइकिल
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


मध्यप्रदेश सरकार ने छठवीं और नौवीं के विद्यार्थियों के लिए निशुल्क साइकिल प्रदाय योजना लागू की थी। लेकिन शिक्षा सत्र समाप्ति की ओर है और उज्जैन जिले के कई शासकीय स्कूल के विद्यार्थियों को अब तक साइकिल वितरित नहीं की गई है।

मध्यप्रदेश सरकार ने निशुल्क साइकिल प्रदाय योजना वर्ष 2004-05 में शुरू की थी। ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों की स्कूली पढ़ाई में घर से स्कूल की दूरी बाधा न बने, इसके लिए सरकार ने उन्हें साइकिल देने को योजना शुरू की है। मगर यह योजना अक्सर लापरवाही का शिकार रही है। ऐसा मौजूदा शिक्षा सत्र में भी हुआ है। सत्र 2023-24 समाप्त होने की कगार पर आ गया है और हालत यह है कि उज्जैन जिले के लगभग 1,725 स्कूली बच्चों को अब तक सरकार से साइकिल नहीं मिल सकी है। परिणाम स्वरूप विद्यार्थियों को स्कूल जाने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 

कक्षा छठवीं और नौवीं में शासकीय स्कूलों में पढ़ाई कर रहे विद्यार्थी जिनके घर से स्कूल की दूरी दो किलोमीटर या इससे अधिक है, इनके लिए मध्यप्रदेश सरकार ने निशुल्क साइकिल प्रदाय योजना वर्ष 2004-05 में शुरू की थी। वर्ष 2016-17 से पूर्व पात्र बच्चों को साइकिल खरीदने के लिए 2,400 रुपये दिए जाते थे। सरकार के संज्ञान में जब ये बात आई कि बच्चों के अभिभावक इन रुपयों से साइकिल नहीं खरीद रहे हैं तो सरकार ने वर्ष 2016-17 से योजना में बदलाव किया और लघु उद्योग निगम के जरिए खुद साइकिल खरीद कर देना प्रारंभ किया। ऐसा करने पर विद्यार्थियों को साइकिल के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा।

उद्देश्य पूरा न होने पर गत वर्ष सरकार ने फिर योजना बदली और साइकिल के लिए राशि बढ़ाकर पुनः खाते में जमा कराना तय किया। जिले में दिसंबर से पहले छठी के पात्र 1,988 विद्यार्थियों में से 1,784 के बैंक खाते में राशि जमा की। शेष 204 को पिछले साल की स्टाक में रखी साइकिल देने का आदेश जारी हुआ, बावजूद अब तक नहीं दी गई। इसी प्रकार नौवीं के पात्र 5,983 विद्यार्थियों में से 4,462 विद्यार्थियों के बैंक खाते में राशि जमा की गई। शेष 1,521 को अब भी राशि मिलने का इंतजार है। पिछले शिक्षा सत्र 2022-23 में सरकार ने साइकिल के पात्र सारे विद्यार्थियों को पैदल चलाया था और अब शिक्षा सत्र समाप्ति की ओर है और उज्जैन जिले के 1,725 स्कूली बच्चों को अब तक साइकिल नहीं मिली है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *