CM Mohan Yadav said that he will try to open ISRO center in Madhya Pradesh.

युवा संवाद कार्यक्रम में पहुंचे मुख्यमंत्री मोहन यादव।
– फोटो : Amar Ujala Digital

विस्तार


मकर संक्रांति के पावन पर्व पर एक अलग आनन्द की अनुभूति हो रही है और यह पर्व वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी जुड़ा है। हमारे पर्व और त्योहारों में कई रोचक बातें छिपी हुई हैं। मोक्ष देने वाली नगरियों में उज्जयिनी नगरी की महत्ता का भी अपना एक अलग महत्व है। यह बात मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने शासकीय माधव विज्ञान महाविद्यालय तथा मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के संयुक्त तत्वावधान में कालिदास अकादमी के संकुल हॉल में वैज्ञानिक युवा संवाद कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कही। 

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने इस दौरान हैदराबाद से आए इसरो के निदेशक डॉ. प्रकाश चौहान के उज्ज्वल भविष्य की मंगलकामना करते हुए कहा कि उज्जैन में आकर उन्होंने युवाओं से रूबरू होकर विज्ञान के क्षेत्र में उनकी जिज्ञासाओं का संतोषजनक समाधान किया है। 

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि वैज्ञानिक दृष्टि से युवाओं में विज्ञान में रुचि रखने वाले छात्रों के लिए सरकार कार्य कर रही है। इसरो का एक सेंटर मध्यप्रदेश में भी खुले इस संबंध में प्रयास किए जाएंगे। विज्ञान प्रौद्यागिकी के क्षेत्र में अनेक संभावनाएं छिपी हुई हैं। विज्ञान के क्षेत्र में हमारा देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। विज्ञान के विद्यार्थी समय-समय पर हमारे वरिष्ठ वैज्ञानिकों से संवाद स्थापित करें, इसके लिए इस प्रकार के युवा संवाद कार्यक्रम और आयोजित किए जाएंगे, ताकि नई सोंच के साथ हमारे युवा आगे बढ़ सकें। 

वैदिक घड़ी का टावर बनेगा

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि उज्जैन में शीघ्र ही मंगल तिथियों की वैदिक घड़ी का टावर बनेगा। अतिथियों ने दीप दीपन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। तत्पश्चात माधव विज्ञान महाविद्यालय की छात्राओं ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। इस अवसर पर सांसद अनिल फिरोजिया, विधायक अनिल जैन कालुहेड़ा, विवेक जोशी ने इसरो के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. प्रकाश चौहान का स्वागत कर सम्मान किया। कार्यक्रम में डॉ. अर्पण भारद्वाज तथा डॉ.अनिल कोठारी ने अतिथियों का स्वागत किया। युवा संवाद में छात्र-छात्राएं, वरिष्ठ नागरिक गण, शिक्षकगण आदि के साथ कलेक्टर नीरज कुमार सिंह, एस.पी. सचिन शर्मा उपस्थित थे।

मकर संक्रांति पर्व की बधाइयां भी दीं

हमारे त्योहारों में वैज्ञानिक एवं पौराणिक महत्व छिपा है। वैसे तो रविवार का दिन सभी काम काज की छुट्टी और मौज मस्ती का रहता है, लेकिन रविवार को उज्जैनवासियों की सुबह की शुरुआत राहगिरी आनंदोत्सव के साथ हुई। इसमें खुद मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव शामिल हुए और उन्होंने इस आयोजन का न सिर्फ जमकर लुत्फ उठाया, बल्कि भजन गाकर और तिल के लड्डू बांटकर शहरवासियों को मकर संक्रांति पर्व की बधाइयां भी दीं।

देश लगातार विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा

आनन्दोत्सव में बचपन से पचपन और आनंदमयी उम्र के उत्सवधर्मी, भारतीय संकृति से जुड़े प्राचीन खेलों, सांस्कृतिक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने भाग लेकर प्रतिभागियों का उत्सावहर्धन किया। राहगीरी में कोठी पर स्थित बने मंच से मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि हमारा देश लगातार विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है और विकास के नए-नए आयाम स्थापित हो रहे हैं। सरकार सब का भला करने वाली सरकार है। उन्होंने कहा कि गरीब व्यक्ति की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए। राहगीरी में हर वर्ग के उत्सव प्रेमियों ने सहभागिता की है। यादव ने मकर संक्रांति के पावन पर्व पर सब को हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई दी। 

श्री रामजनार्दन मंदिर में किया श्रमदान

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने उज्जैन में  मकर संक्रांति के पावन पर्व पर अंकपात स्थित अति प्रचीन श्री रामजनार्दन मंदिर में पूजा-अर्चना की। प्रधनमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर मंदिरों की स्वच्छता के अंतर्गत मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने श्री राम जनार्दन मंदिर परिसर में स्वच्छता अभियान कर शुभारंभ कर श्रमदान किया। इस अवसर पर सांसद अनिल फिरोजिया, विधायक अनिल जैन कालुहेड़ा आदि ने भी स्वच्छता श्रमदान किया।

रेलवे के बहु-विषयक क्षेत्रीय प्रशिक्षण संस्थान का शिलान्यास किया

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव सांसद अनिल फिरोजिया के साथ आगर रोड स्थित इंदिरा नगर के समीप रेलवे की भूमि पर बहु-विषयक क्षेत्रीय प्रशिक्षण संस्थान का विधिवत भूमिपूजन कर शिलान्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने उपस्थित जन-समुदाय को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार सड़कों के विकास के साथ-साथ रेलवे का भी विकास और विस्तार कर रही है। सरकार के द्वारा रेलवे के विकास में केन्द्र सरकार के द्वारा 13 हजार 672 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। उन्होंने कहा कि जिस भूमि पर भूमि पूजन किया है, यहां से आगर जाने वाली नेरोगैज रेलवे लाइन हुआ करती थी। बहुत दिनों से रेलवे की इस भूमि का पर सदुपयोग होकर यहां बहु-विषयक क्षेत्रीय प्रशिक्षण संस्थान जल्द आकार लेगा। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि उज्जैन में सिंहस्थ 2028 के लिए अभी से कार्य योजना तैयार की जाकर विकास के कार्य किए जायेंगे। उज्जैन शहर की हवाई पट्टी का उन्नयन होगा और शहर से दूसरे शहरों के लिए सड़क और हवाई यात्रा में सुगमता होगी। 

रेलवे स्टेशन अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की तर्ज पर होगा विकसित 

इस अवसर पर सांसद फिरोजिया ने कहा कि केन्द्र सरकार ने बहु-विषयक क्षेत्रीय प्रशिक्षण संस्थान 175 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित किया जाएगा। इसके बाद द्वितीय चरण का कार्य भी शीघ्र होगा। फिरोजिया ने कहा कि उज्जैन शहर के रेलवे स्टेशन को अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की तर्ज पर विकसित करने के लिए भारत सरकार ने लगभग 850 रुपये मंजूर किए हैं और प्रथम चरण में रेलवे स्टेशन का उन्नयन करने के लिए 468 करोड़ रुपये से कार्य शुरू होगा। सांसद फिरोजिया ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया है कि उज्जैन से झालावाड़ा रेलवे ट्रैक का निर्माण कराने का भी प्रयास करें। नए प्रशिक्षण संस्थान की सबको शुभकामनाएं दी।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *