MP Election Result 2023: Five big reasons for Congress's defeat in Madhya Pradesh

कांग्रेस की हार के पांच बड़े कारण
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के परिणाम सामने हैं। कांग्रेस को करारी हार का मुंह देखना पड़ा है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा, जन आक्रोश रैली, कांग्रेस की 11 गारंटी, नारी सम्मान योजना, 50 परसेंट कमिशन की सरकार इनमे से कोई भी मुद्दा जनता के बीच चल नहीं पाया। अब भोपाल से लेकर दिल्ली तक समीक्षा बैठकों का दौर चलेगा। राजनीतिक पंडित भी कांग्रेस की हार के कारणों पर मंथन कर रहे हैं। लेकिन पांच बड़े कारण ऐसे हैं जो साफ तौर पर नजर आ रहे हैं। जिनकी वजह से कांग्रेस को उम्मीद के विपरीत परिणाम प्राप्त हुए हैं। 

जनता पर छोड़ा

कांग्रेस की हार के सबसे बड़े कारण पर अगर बात की जाए। तो कहा जा रहा है कि कांग्रेस ने खुद यह चुनाव कभी लड़ा ही नहीं। कांग्रेस ने पूरा चुनाव जनता के भरोसे छोड़ दिया। कमलनाथ खुद ये कहते नजर कि सवाल मेरे या कांग्रेस के भविष्य का नहीं बल्कि एमपी के भविष्य का है। जनता खुद चुनाव लड़ रही है हमें जनता पर पूरा भरोसा है। इसके चलते कांग्रेस जनता के बीच पहुंची ही नहीं। कांग्रेस को यह भ्रम रहा कि जनता भाजपा से नाराज है और वो परिवर्तन चाहती है। 

प्रियंका बहनों को साध नहीं पाईं

कांग्रेस की हार के दूसरे सबसे बड़े कारण की बात करें तो कांग्रेस कोई एक स्थाई चेहरा जनता के सामने पेश नहीं कर पाई। प्रियंका गांधी और राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश में सभाएं कीं, लेकिन जनता का विश्वास जीतने में वे पूरी तरह से असफल रहे वहीं प्रियंका गांधी महिलाओं को साधने में विफल रहीं। 

आपसी खींचतान उजागर

कांग्रेस की हार का तीसरा बड़ा कारण देखें तो कांग्रेस की आपसी खींचतान उसकी हार की एक बड़ी वजह बनी। कांग्रेस के दिग्गज नेताओं का विवाद सार्वजनिक तौर पर देखा गया। वे मंच पर खुलकर एक दूसरे के खिलाफ बोलते नजर आ आए। कांग्रेस गुटबाजी खेमेबाजी में उलझी रही। कांग्रेस नेता एकजुट होने की बजाय बिखरे टूटे और अलग अलग दिखाई दिए। बड़े नेताओ के रवैए ने कार्यकर्ताओं को भी बांट दिया।जिसका सीधा असर जनता में दिखाई दिया। 

पीसीसी और एआईसीसी अलग-अलग दिखे

कांग्रेस की हार का चौथा बड़ा कारण देखा जाए तो पीसीसी और एआईसीसी में बिल्कुल भी कोऑर्डिनेशन नजर नहीं आया बल्कि इसके उलट दोनों ही दो अलग-अलग विपरीत ध्रुव नजर आए। पीसीसी की टीम और एआईसीसी की टीम के बीच तालमेल की कमी ने कांग्रेस का सारा खेल बिगाड़ दिया है। 

नाथ अकेले दिखे

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार का पांचवां बड़ा कारण कमलनाथ का अकेले किला लड़ाना। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ मैदान में अकेले ही दिखाई दिए। अरुण यादव, सुरेश पचौरी जेसे कांग्रेस के अन्य दिग्गज नेता फ्रेम से आउट दिखाई दिए। वहीं अजय सिंह, नेताप्रतिपक्ष गोविंद सिंह, कमलेश्वर पटेल, जीतू पटवारी अपने ही गढ़ों में फंस कर रहे गए। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *