MP News ATS action in terror funding case Deepak Singhal detained from Neemuch

एनआईए की टीम ने मारा छापा
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


देश विरोधी गतिविधियों में संलिप्त और अंतर्राष्ट्रीय आतंकी संगठनों से संबंध रहने वाले पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के मध्यप्रदेश, राजस्थान और दिल्ली सहित करीब 12 ठिकानों पर मंगलवार देर रात से एनआईए छापेमारी कर रही है। केंद्र सरकार पीएफआई पर पिछले साल सितंबर महीने में आतंकी संगठन पीएफआई पर पांच साल के लिए प्रतिबंध लगा चुकी है।

केंद्रीय जांच एजेंसियों के इनपुट पर मध्यप्रदेश एटीएस और एनआईए की संयुक्त टीम ने बीती देर रात प्रदेश के नीमच निवासी कारोबारी दीपक सिंघल के ठिकानों पर छापा मारा है। दीपक सिंघल शैल कंपनियों के माध्यम से पैसों का हवाला किया और जीएसटी को भी करोड़ों का चूना लगा चुका है। जीएसटी भी उसके खिलाफ कार्रवाई कर चुकी है। मप्र एटीएस और एनआईए की टीम दीपक सिंघल से टेरर फंडिंग को लेकर पूछताछ कर रही है। एक व्यक्ति को पूछताछ के बाद छोड़ा गया। मुसाब खान और उसके परिवार वालों से लंबी पूछताछ की गई। करीब तीन घंटे तक घर में ही पूछताछ की गई, साथ ही दो मोबाइल जब्त कर लिए गए हैं।

मध्यप्रदेश में जड़े जमाने की कोशिश में जुटा पीएफआई आतंकी संगठन और उसके राजनीतिक संगठन सहित अन्य सहयोगी संगठनों पर बीते  एक साल में कई बार छापेमारी हो चुकी है। मप्र एटीएस ने प्रकरण दर्ज किया था। बाद में मामला अंतर्राज्जीय से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जुड़ने के कारण जांच का जिम्मा राष्ट्रीय जांच अभिकरण (एनआईए) को सौंपा गया है।

एनआईए भोपाल, इंदौर, खंडवा, बुरहानपुर सहित कई अन्य स्थानों पर अलग-अलग छापेमारी कर दो दर्जन से अधिक पीएफआई के सक्रिय सदस्यों को गिरफ्तार कर चुकी है। भोपाल, इंदौर में पीएफआई और उसके राजनीतिक विंग के कार्यालय सील किए जा चुके हैं।

टेरर फंडिंग की हो रही जांच

पीएफआई संगठन से जुड़े लोगों का टेरर फंडिंग में भी शामिल होने के पुख्ता सबूत एनआईए को मिले हैं। इसके बाद टेरर फंडिंग को लेकर जांच की जा रही है। कथित आतंकी संगठन के आकाओं से संपर्क रखने वाले कुछ और पीएफआई सदस्यों की गिरफ्तारी और आतंकी संगठन को सहयोग करने वालों को लेकर बीती देर रात से एनआईए मघ्यप्रदेश, राजस्थान और दिल्ली के 12 ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *