Gulveer Singh reached village after winning bronze medal

मां-बाप को कांस्य पदक देते गुलवीर सिंह
– फोटो : स्वयं

विस्तार


चीन के हांगझोऊ में चल रहे एशियाड खेलों में ट्रैक एंड फील्ड की 10 हजार मीटर दौड़ में भारतीय सेना के हवलदार गुलवीर सिंह ने कांस्य पदक जीत कर देश का नाम रोशन किया है। अलीगढ के छर्रा के गांव सिरसा निवासी गुलवीर का शनिवार को उनके पैतृक गांव में जोरदार स्वागत हुआ।

गुलवीर प्रशंसक

उन्होंने गांव के मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए 20 लाख रुपये का दान देने का एलान किया। बताया कि आगामी 10 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के लिए वह दिल्ली रवाना होंगे। एशियाड के बाद अब नवंबर में अमेरिका में होने वाली प्रतियोगिता भाग लेना है। इसके साथ ही ओलंपिक की तैयारी के लिए जुटना है। ओलंपिक पदक जीतकर देश का नाम रोशन करना उनका सपना है।

रोड शो

सैकडों ग्रामीणों ने अतरौली से लेकर गांव तक रोड शो निकाला। कई जगहों पर रोड शो का स्वागत हुआ। छबीलपुर पर ग्राम प्रधान चौ. चंद्रपाल सिंह, कृष्णगोपाल सिंह, रामगोपाल सिंह, कुशलपाल सिंह सप्पू, रविकांत भारद्वाज एवं सिरसा मोड़ पर भाजपा नेता एवं श्री सिद्ध बाबा महाविद्यालय के सचिव चौ. बोद्धपाल सिंह, राय सिंह आदि ने गुलवीर का माला पहनाकर स्वागत किया। चौ. बौद्धपाल सिंह ने पूरे गांव में मिष्ठान का वितरण किया। इस मौके पर यूपी एथलेटिक्स संघ के उपाध्यक्ष शमशाद निसार आजमी सहित अन्य खेल प्रशिक्षु और खेल प्रेमी मौजूद रहे। 

20 लाख दान दिया

मंदिर में टेका माथा, दिये 20 लाख रुपये दान

रोड शो के साथ गांव पहुंचने गुलवीर सिंह ने गांव में स्थित पूर्णानन्द तीर्थ श्रीश्री 1008 श्री उडिया बाबा मंदिर में बाबा की प्रतिमा एवं भगवान शिव के समक्ष माथा टेकने के साथ आशीर्वाद लिया। मंदिर से बाहर आकर सभी का आशीर्वाद लिया। गुलवीर सिंह ने मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए मंदिर कमेटी के खगेशानंद शास्त्री एवं जितेन्द्र शास्त्री को 20 लाख रुपये देने का ऐलान किया। दोनों ने गुलवीर को पगड़ी पहनाने के साथ प्रतिमा भेंट की। 

भाई को मिठाई खिलाती बहन

बहन ने खिलाया मिष्ठान

घर पहुंचे एशियाड पदक विजेता गुलवीर सिंह के परिजनों ने घर पहुंचने पर उनको मिष्ठान खिलाया। गुलवीर  माता-पिता व बड़े भाई बहनों का आशीर्वाद लेने के बाद पिता पप्पू सिंह एवं माता लच्छो देवी को अपना पदक भेंट किया। गांव के साथ-साथ जनपदों के अधिकतर गांवों से युवाओं ने घर पर पहुंचकर पदक विजेता को बधाई दी। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताजा खबरें