मतदाता पुनरीक्षण में एक भी नया मतदाता और मृतक नहीं जोड़ पाए ये बीएलओ

संवाद न्यूज एजेंसी

तालबेहट। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर चलाए जा रहे मतदाता पुनरीक्षण में कई बीएलओ ने रुचि नहीं ली है। इस पर उपजिलाधिकारी श्रीराम यादव ने ऐसे 70 बीएलओ को नोटिस भेज कर उनसे स्पष्टीकरण मांगा है। इस संबंध में बीएलओ के विभागीय अधिकारियों को पत्र भेज दिया गया है।

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा समय- समय पर मतदाता पुनरीक्षण का कार्य चलता रहता है। जिसके तहत 18 वर्ष की आयु पूरी करने वाले युवाओं को नया मतदाता और दिवंगत मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से हटाने के लिए क्रमश: प्रारूप छह और सात भरवाए जाते हैं। इस अभियान के तहत विकास खंड क्षेत्र में 21 जुलाई से 31 अगस्त तक एक माह पुनरीक्षण कार्यक्रम चलाया गया।

इस कार्यक्रम में तहसील के 150 से अधिक बीएलओ को लगाया गया था। लेकिन, बीएलओ ने जब अपनी रिपोर्ट तहसील में जमा की तो उसे देखकर अधिकारियों के होश उड़ गए। इसमें 70 बीएलओ ने इस कार्य में रुचि नहीं ली। इनमें करीब 33 को तो गांव में इस अवधि में न तो कोई नया मतदाता मिला और न ही कोई मृतक नजर आया। जिस पर अधिकारियों ने इन 70 बीएलओ से इस संबंध में उनके स्पष्टीकरण के लिए संबंधित विभागीय अधिकारियों को पत्र लिखा है।

ये हैं बीएलआे

कंपोजिट कंधारी की रेखा जैन, सचिन, झांवर के राजभान सिंह, नत्थीखेड़ा के बालकिशन, जीजीआईसी तालबेहट की किरनलता पाठक, रजावन की ममता वंशकार, करेंगा की कृष्णा, हजारिया के हरचरन, ककरेला के बृजलाल पाल, हसगुवा की सोनम यादव, कड़ेसराबांसी की रानी यादव, रामपुर के मोतीलाल, तेरई के बाबूलाल, सेरवांसकला की रिहाना बानो, मुन्नी खातून, रारा की बृजकुमारी, जमालपुर की रामदेवी, बुधेडी के हीरालाल, बुडेरा के संजय सिंह, कारीपहाड़ी की रेखा, पुलवारा की कुसुम देवी, धमना के श्याम बिहारी, गैदौरा की नीलम देवी, सुमन रिछारिया, कठवर की सपना देवी, खैरा के प्रमोद कुमार कौशिक, बछरावनी के विनोद कुमार, गीता देवी, दशरारा की सुनीता वर्मा, डुलावन के राजेश कुमार, इमिलिया के राजीव कुमार त्रिपाठी, रायपुर के महेश प्रसाद और रजनी नामदेव आदि बीएलआे ऐसे हैं जिन्हें कोई मृतक मतदाता व नया मतदाता नहीं दिखा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताजा खबरें