MP Monsoon: Rainy season will continue till September 20, warning of heavy rain in 20 districts even today

इंदौर में शनिवार रात तेज बारिश हुई।
– फोटो : सोशल मीडिया

विस्तार


मध्यप्रदेश में मानसून सक्रिय होने से बारिश का दौर जारी है। कहीं तेज तो कहीं हल्की बारिश हो रही है। 12-13 सितंबर से एक बार फिर से मानसूनी सिस्टम एक्टिव होगा। इससे 18-20 सितंबर तक बारिश का दौर चलता रहेगा। भोपाल, इंदौर संभाग में बारिश जारी है। अशोकनगर जिले के ईसागढ़ में मॉडल स्कूल के पीछे बने कच्चे घर में करीब आधी रात को घर के समय आकाशीय बिजली गिरने घर के अंदर बधी करीब 70 बकरियों की मौत हो गई। उज्जैन में रामघाट के मंदिर जलमग्न हो गए हैं। 

मौसम केंद्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के नर्मदापुरम, उज्जैन, ग्वालियर, सागर, चंबल, संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानो पर, इंदौर, भोपाल एवं जबलपुर, संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर एवं शहडोल, रीवा संभागों के जिलों में कुछ स्थानो पर वर्षा दर्ज की गई। इस दौरान मुरैना में 170, तामिया में 140, परासिया, पेटलावद, नर्मदापुरम में 100, ताल, आलोट, बाजना में 90, अलीपुर, इटारसी, पचमढ़ी में 80, सीतामऊ, गोहरगंज, बैराड़, गौरिहार, छतरपुर. छिंदवाड़ा में 70, सौसर. कटनी, पलेरा, खरगापुर, नटेरन. इंदरगढ़, रहटगांव, राघौगढ़. बुधनी, रायसेन में 60, सीहोर, देपालपुर, बनखेड़ी, नागदा, गैरतगंज. भोपाल अरेरा हिल्स, आगर, पिपरिया. झाड, इछावर, बाड़ी, गौतमपुरा, अंबाह, देवरी, देवरी. उमरेठ. गाडरवारा. रेहली में 50 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। 

अगले 24 घंटों का पू्र्वानुमान बता रहा है कि शिवपुरी, अशोक नगर, दतिया, मुरैना, भिण्ड, पन्ना, टीकमगढ, एवं निवाडी जिलों में कहीं-कहीं अतिभारी बारिश का अनुमान है। यहां ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। वहीं अलीराजपुर, झाबुआ, बडवानी को छोड़कर पूरे प्रदेश में कहीं-कहीं वज्रपात की संभावना है। श्योपुर कलां, रायसेन, गुना, ग्वालियर, विदिशा, नर्मदापुरम, सतना, सागर, दमोह, छतरपुर, सिवनी एवं कटनी जिलों में भारी बारिश के लिए यलो अलर्ट दिया गया है। 

मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो वर्तमान में उत्तर-पश्चिमी मप्र एवं उससे लगे उत्तर-पूर्वी राजस्थान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। मानसून द्रोणिका जैसलमेर, कोटा, सीधी, जमशेदपुर, दीघा से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बनी हुई है। इसके अतिरिक्त उत्तर-पश्चिमी मप्र पर बने चक्रवात से पूर्वी मप्र से होकर दक्षिणी छत्तीसगढ़ तक भी एक द्रोणिका बनी हुई है। इस सीजन में एक जून से रविवार सुबह साढ़े आठ बजे तक प्रदेश में कुल 756.3 मिलीमीटर वर्षा हुई है। जो सामान्य वर्षा (862.5 मिमी.) की तुलना में 12 प्रतिशत कम है। हालांकि हाल ही में सिर्फ पांच दिन की वर्षा ने सामान्य वर्षा में सात प्रतिशत तक की भरपाई कर दी है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताजा खबरें