Shivpuri SP took crime meeting Instructions for strict action on gambling speculation illegal liquor mining

नए SP ने ली क्राइम मीटिंग
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार

शिवपुरी पुलिस अधीक्षक रघुवंश सिंह भदौरिया मंगलवार को पुलिस कंट्रोल रूम शिवपुरी में जिले के समस्त एसडीओपी एवं समस्त थाना प्रभारियों के साथ पहली क्राइम मीटिंग ली। क्राइम मीटिंग में सर्वप्रथम पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी अधिकारियों से परिचय किया गया और थानावार उपलब्धियों व आगामी लक्ष्यों के बारे में जानकारी ली। एसपी द्वारा क्राइम मीटिंग में अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए गए। उन्होंने कहा कि सभी थाना प्रभारी थाने के सौंदर्यीकरण पर विशेष ध्यान देने और सभी थाने प्रतिस्पर्धा करते हुए अच्छे से अच्छा काम करने के निर्देश दिए। उन्होंने समस्त थाना परिसर में पैड़, पौधों और फूलों के गमले रखने और पानी की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

पुलिस अधीक्षक द्वारा समस्त अधिकारियों को बताया गया कि थाने पर आने वाले पीड़ित के साथ दुरुव्यवहार न करें और नैतिकता के साथ व्यवहार करते हुए उनकी समस्या को सुने और वैधानिक कार्रवाई करें। थानों पर दिन और रात में ड्यूटी अफसर थाने पर मौजूद रहें और ड्यूटी ऑफिसर का मोबाइल नंबर थाने की दीवार पर चस्पा किया जाए। थाने पर प्राप्त होने वाली छोटी-छोटी शिकायतों पर तुरंत कार्रवाई करें, ताकि भविष्य में घटना बड़ी न हो सके।

जुआ, सट्टा, अवैध शराब, अवैध उत्खनन, शासकीय भूमि पर अवैध कब्जा, राशन माफिया, नार्कोटिक्स ड्रग ग्रोह आदि पर शक्ति से कार्रवाई करें। बलात्संग, पॉक्सो एक्ट में आरोपियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करें और आरोपियों के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई करें। संपत्ति संबंधी अपराधों (चोरी, नकबजनी, लूट, डकैती) में कमी लाएं और तुरंत कार्रवाई करते हुए घटना का पर्दाफाश कर आरोपियों की गिरफ्तारी करें। आरोपियों की जेल रिहाई की जानकारी रखें।

आरोपियों की प्रोफाइल तैयार करने के दिए निर्देश…

एसपी ने कहा कि समस्त थाना प्रभारी थाना क्षेत्र के एवं पड़ोसी थाना क्षेत्र के आरोपियों की प्रोफाइल तैयार करेंगे। समस्त थाने वारंट तामीली के लिए विशेष अभियान चलाकर ज्यादा से ज्यादा वारंटों की तामील करेंगे। 82/83 की कार्रवाई करेंगे। गंभीर अपराधों मे 24 घंटे के अंदर आरोपी की गिरफ्तारी सुनिश्चित करेंगे। नाबालिग बालक-बालिकाओं के गुम होने पर तत्काल कार्रवाई करते हुए जल्द से दस्तयाब की कार्रवाई करेंगे। सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए संतुष्टि पूर्वक निराकरण करें। सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों के निराकरण का प्रतिशत 90 से अधिक होना चाहिए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *