[ad_1]

मध्यप्रदेश में इन दिनों लोग सावन-भादौ जैसा फील कर रहे हैं। बीते तीन दिनों से बारिश का सिलसिला जारी है। रविवार को भी सुबह से कई जिलों में बारिश हुई है। इंदौर में एक इंच से ज्यादा बारिश हुई है तो शाजापुर ऐर धार जिले के ग्रामीण इलाकों में ओलावृष्टि से बर्फ की चादर बिछने जैसा नजारा दिखा है। जबलपुर के ग्रामीण इलाकों में जमकर बदरा बरसे हैं। पाटन में 11 सेंटीमीटर तक बारिश दर्ज की गई है। अगले 24 घंटों में 17 जिलों में बारिश-ओलावृष्टि के लिए ऑरेंज अलर्ट दिया गया है। जबलपुर, मंडला, डिंडौरी, बालाघाट एवं कटनी जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना जताई गई है।

 

इंदौर में कई सालों का रिकॉर्ड टूटा

इंदौर शहर में छाए बादल रविवार सुबह अचानक बरस पड़े। सुबह से तो हल्की बूंदाबांदी होती रही, लेकिन करीब साढ़े सात बजे तेज बारिश शुरू हो गई। करीब आधे घंटे हुई तेज बारिश से सड़कों पर पानी भरा गया। इंदौर में 24 घंटे में करीब एक इंच बारिश हुई। बताया जा रहा है कि 1895 के बाद अप्रैल में इतनी बारिश हुई है। राजधानी भोपाल में भी खंडवर्षा के हालात बने रहे। मौसम जानकार बता रहे कि भोपाल में मई का पहला सप्ताह भी बारिश भरा ही रहेगा। यानी तेज और रिमझिम बारिश का दौर जारी रहेगा। 1 और 2 मई को हल्की बारिश होगी। वहीं, 3 मई को तेज बारिश होने का अनुमान है। पढ़ें विस्तार से… 

ये भी पढ़ें: Shajapur Weather: शाजापुर जिले में कश्मीर सा नजारा, शुजालपुर-कालापीपल क्षेत्र में बारिश के साथ जमकर गिरे ओले

 



पाटन में 11 सेमी तक गिरा पानी

मौसम केंद्र की रिपोर्ट कह रही है कि बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश के जबलपुर एवं नर्मदापुरम संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानों पर, उज्जैन, इंदौर, भोपाल, शहडोल संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर एवं सागर, रीवा व ग्वालियर संभागों के जिलों में कुछ स्थानों पर वर्षा दर्ज की गई। इस दौरान पाटन में 11, भैंसदेही में 8, सिवनी में 6, पनागर, बिछुआ, बरघाट में 5, सौसर, मुलताई, पांढुरना में 4, छिंदवाड़ा, धनोरा, केओलारी, चॉरी, जबलपुर, गाडरवारा, कटनी, प्रभात पट्टन, आंवला, इच्छावर में 2 सेंटीमीटर तक पानी गिरा है। अधिकतम तापमान जबलपुर, इंदौर संभाग के जिलों में काफी गिरे हैं। सर्वाधिक अधिकतम तापमान 36.2 डिग्री सीधी में दर्ज किया गया।

शाजापुर में बिछी बर्फ की चादर

शाजापुर जिले में मौसम का मिजाज बिगड़ा हुआ है। शुजालपुर और कालापीपल क्षेत्र में तो पिछले तीन दिनों से बारिश का दौर चल रहा है। रविवार को शुजालपुर और कालापीपल क्षेत्र में जमकर बारिश और ओलावृष्टि हुई। जिससे मौसम में ठंडक घुल गई। कुछ क्षेत्रों में तो नजारे बर्फीले इलाकों जैसा दिखा। आष्टा- शुजालपुर मार्ग पर किशोनी जोड से लेकर जेठडा जोड़ के मध्य लगभग दो किलोमीटर के दायरे में ओलावृष्टि के चलते सफेद चादर सी बिछ गई। इसके अलावा कालापीपल क्षेत्र में भी जमकर ओलावृष्टि हुई। रविवार को क्षेत्र में लगभग आधे घंटे तक ओलावृष्टि हुई, इस दौरान कुछ समय तक आंवले से भी बड़े आकार के ओले गिरे, सड़क के साइड में बने गड्ढों में बर्फ से भर गई। जहां आमजन और बच्चे बर्फ में खेलते नजर आए। ओलावृष्टि के चलते किसान परेशान हैं, ओले गिरने से क्षेत्र के कई खेत पूरी तरह सफेद नजर आए। दरअसल रविवार की अल सुबह तेज बारिश हुई। इसके बाद दोपहर में आधे घंटे तक तेज बारिश हुई और ओले गिरे। पढ़ें विस्तार से… 

ये भी पढ़ें: Indore Weather: इंदौर मेें सवा सौ साल बाद अप्रैल में झमाझम बारिश, ओले भी बरसे, हवाई सेवा भी हुई प्रभावित 


देवास के अंचल भी भीगे

देवास शहर व अंचल में कई जगह लगातार तीसरे दिन रविवार को भी बारिश का दौर चला। रविवार सुबह जहां चिड़ावद, टोंककला क्षेत्र में खंड वर्षा का असर रहा, कहीं तेज तो कहीं रिमझिम बारिश हुई। वहीं शहर में दोपहर करीब 1 बजे से खंड वर्षा हुई, इस दौरान कुछ क्षेत्रों में झमाझम बारिश कुछ देर के लिए हुई तो कुछ क्षेत्रों में रिमझिम का दौर रुक-रुककर चलता रहा। 

धार में भारी ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान

धार जिले में बीते तीन दिनों से लगातार मौसम में परिवर्तन देखा जा रहा है, रविवार को दोपहर में अचानक घने काले बादलों से आसमान घिर गया और कई जगहों पर तेज हवा के साथ मूसलाधार बारिश देखी गई। वहीं सरदारपुर क्षेत्र के ग्राम सगवाल के कृषक और व्यवसाई आनंद परमानंद पाटीदार ने जानकारी देते हुए बताया कि सगवाल क्षेत्र में लगभग एक घंटा आंधी के साथ ओलावृष्टि हुई है। इसके चलते खेतों में लग रही तरबूज और शक्कर बट्टी की फसलें पूरी तरह बर्बाद हो गई हैं और लाखों रुपये का नुकसान हुआ है।  ओलावृष्टि के बाद खेतों में बर्फ की सफेद चादर जम गई थी। धार जिले में ग्राम पचलाना, सगवाल, बगड़ी और पीथमपुर क्षेत्र में तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई है। 

रतलाम में रुक-रुककर हो रही बूंदाबांदी

प्रदेश के अन्य जिलों के साथ ही रतलाम में भी मौसम बारिश का बन गया है। आसमान में बादल छाए हुए हैं जो तेज हवा और आंधी के साथ कभी कभी हल्की बूंदाबांदी भी शुरू हो रही है। शहर के आसपास के इलाकों सहित समीपस्थ जिलों में बीती रात तेज बारिश हुई। गर्मी के दिनों में बारिश के इस मौसम को देख हर कोई परेशान है। बीते वर्ष इस समय पर गर्मी ने अपने तीखे तेवर दिखाना शुरू कर दिए थे और तापमान 43 डिग्री के करीब पहुंच गया था लेकिन इस बार तापमान फिर से गिरकर 31 डिग्री पर पहुंच गया है।

 


छतरपुर जिले में जोरदार बारिश

छतरपुर जिले में जोरदार बारिश हो रही है। जिले के खजुराहो में गतरज के साथ भारी बारिश हो रही है। सुबह से धूप निकली थी, पर अचानक काले बादल छा गए। मंदिर परिसर में घूम रहे लोग मंदिरों में दुबक गए हैं। गरज के साथ भारी बिजली कड़क रही है मानो कहीं आसपास आकाशीय बिजली (गाज) भी गिरी हो।

 


आज-कल भी बारिश और ओले गिरने की संभावना

अगले 24 घंटों के लिए मौसम विभाग का पूर्वानुमान कह रहा है कि जबलपुर, शहडोल संभाग के जिलों में अधिकांश स्थानों पर, चंबल, ग्वालियर, सागर, रीवा एवं भोपाल संभाग के जिलों में अनेक स्थानों पर, नर्मदापुरम संभाग के जिलों में कुछ स्थानों पर तो इंदौर-उज्जैन संभाग के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। मौसम विभाग ने सोमवार के लिए चेतावनी भी जारी की है। ऑरेज अलर्ट बता रहा है कि जबलपुर, मंडला, डिंडौरी, बालाघाट एवं कटनी जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। यहां हवा की गति 50 किमी प्रति घंटे तक रह सकती है। नर्मदापुरम एवं चंबल संभाग के जिलों में एवं गुना, भोपाल, दतिया, धार, इंदौर, ग्वालियर, शिवपुरी, उज्जैन, सागर एवं शाजापुर जिलों में कहीं-कहीं अल्पकालिक ओलावृष्टि हो सकती है। इसके अलावा पूरे प्रदेश में गरज-चमक के साथ आंधी देखने को मिल सकती है। राजधानी भोपाल में भी सोमवार को अल्पकालिक ओलावृष्टि, तेज हवा के साथ बौछारें की स्थिति बनी रहेगी। शहर में अधिकांश समय बादलों का डेरा रहेगा। 




[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *