The prisoners heard the 100th edition of Mann Ki Baat, Resolved to join the mainstream of the society

मन की बात सुनते कैदी
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार

अप्रैल के आखिरी रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम का 100वां संस्करण प्रसारित हुआ, जिसे देश-विदेश में भी सुना गया। पीएम मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम को सुनने के लिए मध्यप्रदेश के कटनी जिला जेल में बंद कैदियों ने भी इस कार्यक्रम को सुनने की अपील की थी, जिसे मानते हुए जेल अधीक्षक ने टीवी चैनल के माध्यम से कार्यक्रम चलाने की अनुमति प्रदान की थी। आधे घंटे तक चले इस कार्यक्रम को करीब एक सैकड़ा से अधिक बंदियों ने सुना और उस पर अमल भी किया।

कटनी के जिला जेल में बंद कैदियों ने जेल अधीक्षक समेत स्टॉफ के साथ मिलकर मन की बात के 100वें संस्करण को सुनकर पीएम मोदी से काफी प्रभावित हुए। बंदियों ने पीएम मोदी की बात सुनकर बुराई का रास्ता छोड़कर समाज की मुख्यधारा से जुड़ने का संकल्प लिया। बंदियों का कहना है क पीएम मोदी लगातार महिलाओं, समाज और सांस्कृति को बचाने के लिए काफी प्रयास कर रहे हैं। इसलिए हम सभी आपराधिक गतिविधियों छोड़कर एक अच्छा जीवन व्यतीत करने की कोशिश करेंगे। कैदियों ने बताया कि हम सभी ने मन की बात कार्यक्रम को चलाने की अपील की थी, जिसे जेल अधीक्षक ने नवाचार करते हुए सभी के लिए जेल के अंदर ही मन की बात कार्यक्रम चलवाया, जिसके लिए उनका भी आभार व्यक्त करते हैं। जेल अधीक्षक का कहना है कि इस कार्यक्रम से कैदियों के जीवन में काफी सुधार और बदलाव होने की उम्मीद है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *