नदीगाव विकासखण्ड मे बेसिक शिक्षा का बुरा हाल शिक्षक नही पहुचते विद्यालयो मे बच्चो से खुलवा दिया जाता स्कूल

नदीगांव/जालौन। (जितेंद्र कुशवाहा) बच्चे कुर्सियो से खेलते मचाते रहते उत्पात उपजिलाधिकारी के स्पष्ट निर्देश के वाद भी खण्डशिक्षाधिकारी नही हुये सचेत एक दो विद्यालयो मे जाकर कर ली होगी रस्मअदायगी .मीडिया से रू बरू होने से कर रहे टालमटोल आखिर क्या है दाल मे काला कोच जालौन शासन प्रशासन कितनी भी सख्ती बरत ले कितने भी नियम कानून बना ले पर जनपद जालौन के विकासखण्ड नदीगाव की शिक्षा व्यवस्था मे सुधार होने वाला नही दिखता बजह जो भी हो जनप्रतिनिधियों का संरक्षण या धनपति कुबेर यद्यपि उपजिलाधिकारी गुलाब सिहं के आने से धनपति कुबेर से क ई विभागो का मोह भंग हो गया है और विभागो के अधिकारियों ने स्वयं मे और अपने अधीनस्थो मे परिवर्तन लाया है लेकिन विकासखण्ड नदीगाव के खण्डशिक्षाधिकारी ने न तो अपने को परिवर्तित किया और न ही अपने अधीनस्थो को हाँ कुछ परिवर्तन लाया है तो ये और सिखा दिया कि कोई भी मीडिया कर्मी आये तो कुछ भी नही बताना कोई कुछ नही करेगा रिपोर्ट तो हमे लगानी है यही बजह रही कि प्राथमिक विद्यालय कटकरी मे सब कुछ व्यवस्था के प्रतिकूल चल रहा है बच्चे टूटी चूडियो के टुकडो से खेल रहे होते कोडियो से खेल रहे होते अध्यापक अपने मे मस्त रहते पूछने पर कुछ भी बताने से इन्कार करते ये सब खण्डशिक्षाधिकारी के संञान मे होने पर कोई कार्यवाही तो दूर उनसे पूछा भी नही जाता इतना ही नही जब हमारी टीम ने गत दिवस अभिभावको के आग्रह पर कुछ गांवो का भ्रमण किया तो वही पाया जो अभिभावको का कहना था ग्राम पीपरी कला मे 9 बजकर 30 मिनट पर जब हमारी टीम पहुची।

तो पूर्व माध्यमिक विद्यालय मे ताला पडा था प्राथमिक विद्यालय पीपरी कलां मे 9 बजकर 40 मिनट तक कोई अध्यापक नही था बच्चे कुर्सी को लेकर एक दूसरे से झगड रहे थे विद्यालय कक्षा पाचवी मे पढने छात्रा ने खोला प्रतिदिन ये जिम्मेदारी उसी को दी गयी यहाँ से आगे ग्राम कैलिया के कन्या पूर्व माध्यमिक विद्यालय मे जब हमारी टीम पहुंची 10 बजे तो यहाँ पूर्व से ही ताला लटका मिला जब गावं के लोगो से जानकारी की तो उनका कहना था कि अभी अभी मास्साब का फोन आया अवकाश है क्या विद्यालय खुला था तो उनका कहना था विद्यालय तो खुला था पर मास्साब कोई नही थे सामने वालो के पास चाबी है वो खोल देती है इस सबके सम्बन्ध मे जब बात की खण्डशिक्षाधिकारी नदीगाव विजय वहादुर सचान से तो उनका कहना था कि आज अवकाश होने की संभावना है इस लिये अध्यापक नही पहुचेगे होगे वाह री बेसिक शिक्षा सम्भावना पर ही अवकाश मान लिया जाता और जो नियमित समय से पहुचने वाले शिक्षक है जो विद्यालय पहुँच चुके थे तो उनको क्या माना जाय इस प्रश्न पर महोदय चुप हो गये इसी क्षेत्र के ग्राम चटसारी मे तैनात अध्यापक कैलिया प्राथमिक मे तैनात अध्यापक अपने दायित्वों का निर्वहन कर रहे थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *